3/2/10

थक जाने के बाद


थक जाने के बाद,
रंग क्या कहते हैं?

जब जभी आती है शबे होली
तुम्हारे बदन के रंग आबनूसी रंगों में घुल जाते हैं

मिलने दो रंगों को आपस में
आबनूसी नीला लाल जोगिया पीला सब्ज़
उस पैराहन को ओढो बिछाओ
जो रंगीनियों में डूब गया है

अंत नहीं है यह
यही मुकम्मल सी इब्तिदा है
जो हमेशा आख़िरी ख़ुशी से भर देती है

चलो इस बार हम तस्कीन करें
क़ि वक्त बेरहम है
प्यार सिर्फ तुम करती हो
क़ि बेपनाह जब मैं कहता हूँ
उसमे एक पनाह है जो बिना मांगे
छीनता हूँ मैं
इस शब् भी

थक जाने के बाद रंग
संग साथ खोजते हैं

रंगीन मायः के जो आबसार जिन्दा हो
ढला करे हैं फकत शबे वक्त होली में
के उनकी कसम
ख्वाबीदा आँखों के सब ख्वाब सुर्खरू होंगे
तुम कह रही थीं
कौन सुनता था ?

वो हज़ारहाँ वाइदे
जो मैंने किये
वो चुक गए और मैंने पाया ये
के जिक्रे मीर से मीर होना एक खराबी है
जो दिल में उतरती है
चाक करती है
वो शब् तुम्हारी नेमतों से है

जो थक गए हैं रंग
और गाढ़े हैं यारब
रुको जो प्यास के पत्थर पे
इंतिजार करो !


मृत्युंजय
बंगलुरु / इलाहाबाद

No comments: