2/1/11

'एक बार हम गएन बंबई....' और 'होल इन द बकेट...'


बच्चों के लिए लिखे गए पुराने लोकगीत एक ख़ास ढर्रा पकड़ कर चलते हैं. उनमें से कुछ कार्य-कारण श्रृंखला को रोचक बनाते हुए आगे बढ़ते हैं. दुनिया में हर जगह बच्चों के लिए लिखे गए गीतों में यह कामन बात है. हो सकता है कि बच्चों की सवाल पूछने की प्रवृति को ध्यान में रख कर इन गीतों को बुना गया हो.

आज पढ़िए अवधी-भोजपुरी अंचल में बच्चों के लिए गाया जाने वाला एक गीत-

एक बार हम गएन बंबई नौकरी कीन्हा तीन
दुई ठो छोड-छाड़ दीन एक ठो कईबई नाहीं कीन

जवन कईबई नहीं कीन वोहमें मिला रुपैया तीन
दुई तो फाट-फूट गै एक ठो चलबै नाहीं कीन

जवन चलबै नाहीं कीन ओसे गाँव बसावा तीन
दुई तो उजरि पुजरि गै एक ठो बसबई नाहीं कीन

जवन बसबई नाहीं कीन ओहमें कोहार बसावा तीन
दुई तो मरी-खपि गै एक ठो अईबई नाहीं कीन

जवन अईबई नाहीं कीन उहै हांडी पकावा तीन
दुई तो फूट-फाट गै एक ठो पकबई नाहीं कीन

जवन पकबई नाहीं कीन ओहमें चाउर पकावा तीन
दुई तो जर-भुनि गै एक ठो भबई नहीं कीन

जवन भबे नाहीं कीन ओहमें पंडित खियावा तीन
दुई तो भाग-भूग गै एक ठो अईबई नहीं कीन

जवन अईबई नहीं कीन ओके मारा लाठी तीन
दुई तो ऐहमुर-ओहमुर परि गै एक ठो लगबै नाहीं कीन

जवन लगबै नाहीं कीन ओह्पे चला मुकदमा तीन
दुई तो छूट छाट गै एक में पेशिअई नहीं दीन

और सुनिए हैरी बेलाफोंटे की आवाज़ में बच्चों की यह कविता. बेलाफोंटे ने इसे 61 में रिकार्ड कराया था. ये एक पुराने लोकगीत का बदला हुआ रूप है. इसके बोल ये रहे-

There's a hole in my bucket, dear Liza, dear Liza,
There's a hole in my bucket, dear Liza, a hole.
Then fix it, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
Then fix it, dear Henry, dear Henry, fix it.

With what shall I fix it, dear Liza, dear Liza?
With what shall I fix it, dear Liza, with what?
With a straw, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
With a straw, dear Henry, dear Henry, a straw.

The straw is too long, dear Liza, dear Liza,
The straw is too long, dear Liza, too long,
Then cut it, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
Then cut it, dear Henry, dear Henry, cut it.

With what shall I cut it, dear Liza, dear Liza?
With what shall I cut it, dear Liza, with what?
With an ax, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
With an ax, dear Henry, dear Henry, an ax.

The ax is too dull, dear Liza, dear Liza,
The ax is too dull, dear Liza, too dull.
Then sharpen it, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
Then sharpen it, dear Henry, dear Henry, sharpen it.

With what shall I sharpen it, dear Liza, dear Liza?
With what shall I sharpen it, dear Liza, with what?
With a stone, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
With a stone, dear Henry, dear Henry, a stone.

The stone is too dry, dear Liza, dear Liza,
The stone is too dry, dear Liza, too dry.
Then wet it, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
Then wet it, dear Henry, dear Henry, wet it.

With what shall I wet it, dear Liza, dear Liza?
With what shall I wet, dear Liza, with what?
With water, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
With water, dear Henry, dear Henry, water.

In what shall I carry it, dear Liza, dear Liza?
In what shall I carry it, dear Liza, in what?
In a bucket, dear Henry, dear Henry, dear Henry,
In a bucket, dear Henry, dear Henry, bucket.

There's a hole in my bucket, dear Liza, dear Liza,
There's a hole in my bucket, dear Liza, a hole..

1 comment:

अनूप शुक्ल said...

मजेदार कविता है- एक बार हम गयेन बंबई!