1/6/11

बाउलेर गान

70 के दशक के बंगाल की यह आवाज़ आप जरूर सुनें. हरेकृष्ण दास, शुद्धानंद दास और लक्षमण दास द्वारा गए गए ये बाउल गीत अपने ख़ास पन के लिए बहुत चर्चित रहे. दुनिया के और लोक संगीतों की तरह बाउल ने भी न सिर्फ जन आकांक्षाओं को प्रतिध्वनित किया बल्कि क्लासिकल मौसीकी पर भी गहरा असर छोड़ा. खुद रबीन्द्र नाथ टैगोर भी इस विधा से काफी प्रभावित हुए थे.
सुनिए ये तीन बाउल गीत-


2 comments:

kranti said...

baul aam taur par bangla aur rabeendra sangeet ka ek aham hissa hai jise unesco ne bhi manyata di maukhik dharohar ke bataur....pahale vaishnavon aur sufion ne ise bangal mein shayad iski lokpriyata ko dekhte hue khoob istemaal kiya....iska arth bhi gyan ya gyan ki bechaini ke liye hota raha hai....budhisth tantrik siddh dhara ne bhi isme yog diya...hindi cinema mein s.d.burman ne iska behtreen istemaal kiya....shandar baul sunvaane ke liye mrityunjay bhai ko badhai....by krantibodh

नया सवेरा said...

... bahut badhiyaa !!