6/9/11

एम एफ हुसैन नहीं रहे

हुसैन नहीं रहे. एक अद्भुत चित्रकार, जो बेहद सामान्य स्थितियों से आगे बढे. विवाद चाहे कितने चले हों, पर उनकी कला अप्रतिम है. श्रद्धांजलिस्वरुप उन्हीं की कुछ पंक्तियाँ उनकी हस्तलिपि में-


5 comments:

rashmi ravija said...

विनम्र श्रद्धांजलि

शायदा said...

उपरोक्‍त पेंटिंग क्‍या हुसैन की ही है...;

मृत्युंजय said...

जी शायदा जी, यह हुसैन का सेल्फ पोट्रेट है.

dinesh said...

alvida Hussain

ALOK VERMA said...

janlokpal bill me corporate aor media sector shamil kyon nahi hai?jabki sarvadhik bhrstachar 2g spectrum tatha kalmadi sport case me corporate ne hi kiya tha. media ki to malik hi corporate class hai. ANNA ANDOLAN janta ke gahan vikshobh ki adhuri bhramit abhivyakti hai. yah private sector ko clean chit thete hue sarkari sector ko hi gherta hai