11/27/10

की लाल? की लाल? (मैथिली) - नागार्जुन

आज मज़े के इस मूड में बाबा नागार्जुन याद आ गए! पढ़िए उनकी मैथिल कविता "की लाल! की लाल!".


की लाल? की लाल?

अढूलक फूल लाल !
आरतिक पात लाल !
तिलफ़ोड़क फSड लाल!
छऊडीक ठोर लाल !
सूगाक लोल लाल !
ई लाल! ओ लाल !

शोणित लाल, क्रान्ति लाल!
युद्धोत्तर शांति लाल !
रूसकेर देह लाल !
चीनकेर कोंढ़ लाल!
अमेरिकाक नाक लाल!
ब्रिटेनक जीह लाल !
ई! लाल! ओ लाल !

हम्मर मोसि लाल !
अहांक कलम लाल !
हिनकर पोथी लाल !
हुनक गत्ता लाल !
ककरो गाल लाल !
ककरो आंखि लाल !
ई लाल ! ओ लाल!

1 comment:

sanjay said...

blogwood ke navka lal
hamar sabhak mritunjya lal

sadar